भोपाल। सरकार और प्रशासन के खाद की उपलब्धता को लेकर तमाम दावों के बाद भी खाद वितरण केंद्रों पर किसानों की कतारें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। इसकी वजह यह है कि वर्तमान समय में खाद की जरूरत और मांग ढाई गुना  हो गई है। जबकि सप्लाई पुरानी आवश्यकता के आधार पर की जा रही है।प्रदेश में खाद का संकट कम नहीं हो रहा है। पहले डीएपी के लिए लंबी-लंबी लाइनें लगीं, अब किसान यूरिया के लिए भटक रहा है, वह भी समय पर नहीं मिल पा रहा है। खाद वितरण केंद्रों पर किसानों की लाइन लग रही है। खाद न मिलने से नाराज किसान कई दिनों से जगह-जगह प्रदर्शन भी कर रहे हैं। भिंड, सागर, मुरैना, गुना, अशोकनगर में किसानों ने खाद के लिए चक्काजाम किया। वहीं, सागर में किसानों ने पटरियों पर बैठकर रेल तक रोक दी।

बारिश के कारण पहले ही तैयार हो गए खेत
हरिपुर गांव के किसान अतुल लुम्बा ने बताया कि अमूमन नवंबर महीने में डीएपी की जरूरत पड़ती थी। अक्टूबर के अंतिम हफ्ते में खेतों में सिंचाई कर बोवनी के लिए तैयारी की जाती थी। इसके बाद डीएपी की आवश्यकता होती थी, लेकिन इस साल अक्टूबर के मध्य में बारिश हो गई। इन इलाकों में एक ही दिन में कई इंच तक बारिश दर्ज की गई। बारिश होने से खेतों में नमी आने से खेत बोवनी के लिए तैयार हो गए। इसी वजह से किसानों को डीएपी की जरूरत अक्टूबर में ही पड़ गई। यही वजह रही कि खाद की उपलब्धता नहीं हो पाई। कृषि विभाग ने नवंबर में जरूरत के हिसाब से ऑर्डर लगाए हुए थे। उधर, अक्टूबर के मध्य में ही जिन किसानों ने फसल की बोवनी कर दी थी, अब उन्हें यूरिया की जरूरत भी जल्दी पड़ गई। उनकी फसलें 4-5 इंच तक बढ़ गई हैं। किसानों ने फसलों में पानी देना भी शुरू कर दिया है। यही सबसे सही समय होता है यूरिया का छिड़काव करने का। पानी के साथ ही वह घुल जाता है और सही परिणाम देता है। सूखे खेतों में अगर यूरिया डाला जाए, तो वह घुलता नहीं है और उसका कोई उपयोग नहीं रह जाता। यही वजह है कि किसान अब यूरिया के लिए भटक रहे हैं।

खाद की मात्रा भी बढ़ी
कुछ समय पहले तक एक बीघा में 20 किलो खाद डाली जाती थी, लेकिन धीरे-धीरे किसान इसकी मात्रा बढ़ाने लगे। अब एक बीघा में 50 किलो खाद किसान डाल रहे हैं, लेकिन सरकारी रिकॉर्ड में अभी तक एक बीघा में 20 किलो की मात्रा ही चली आ रही है। यही कारण है कि कृषि विभाग 20 किलो के हिसाब से ही आकलन कर खाद का ऑर्डर देते हैं। इसी हिसाब से किसानों को 5 बीघा के लिए 2 कट्टे खाद दिए जाते हैं। मात्रा बढ़ जाने से किसानों के लिए यह खाद कम पड़ जाती है।

अभी प्रदेश में उपलब्ध खाद
सरकार के मुताबिक प्रदेश में ढाई लाख टन यूरिया की उपलब्धता है, जबकि डीएपी 75000 टन रखा हुआ है। बोवनी लगभग हो चुकी है इसलिए यूरिया की मांग बढ़ी है। प्रतिदिन चार से पांच रेलवे रेल के माध्यम से यूरिया आ रही है। रेलवे की एक रैक में 2700 से 2800 टन खाद होती है। बोवनी होने के बाद अब डीएपी की मांग की गई है। प्रतिदिन दो रैक डीएपी अभी आ रही है।