वाराणसी । प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बुधवार को यहां केंद्रीय कारागार का निरीक्षण कर विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया तथा अशक्त एवं वृद्ध कैदियों की सुविधा के लिए दो ई-रिक्शा के इंतजाम करने के आदेश दिए। अपने तीन दिवसीय वाराणसी दौरे के आखिरी दिन श्रीमती पटेल ने जिला मुख्यालय स्थित केंद्रीय कारागार का निरीक्षण किया तथा यहां स्थापित शहीद चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इस दौरान राज्यपाल ने अशक्त और वृद्ध कैदियों की सुविधाओं के बारे में विशेष तौर पर जानकारी ली। उन्होंने अधिकारियों से पूछा कि किसी कारण से जेल से बाहर जाने की स्थिति में इन कैदियों को बैरक से जेल के मुख्य द्वार तक कैसे लाया एवं ले जाया जाता है। उन्हें अधिकारियों ने बताया कि ये कैदी पैदल ही आते-जाते हैं। इस पर उन्होंने कहा कि जेल में दो ई-रिक्शा की व्यवस्था की जाये। इसका खर्च राजभवन उठायेगा। श्रीमती पटेल ने जेल के कैदियों से भी मुलाकात की तथा यहां रहे रहे विभिन्न विधा में निपुण कारीगरों के उत्पादों का अवलोकन किया। उन्होंने बेकरी, फर्नीचर, तौलिया, गमछा के अलावा यहां उगायी गई सब्जियों को भी देखा। उन्होंने जेल परिसर के गौशाला का भी निरीक्षण किया तथा गायों को केले और गुड़ आदि खिलाकर स्नेहिल स्पर्श दिया।