सनातन सभ्यताओं में घरों को बनना या फिर घर में किसी चीज को स्थापित करना भीं हों तो वास्तु शास्त्र का ध्यान रखा जाता हैं इसके अनुसार ही कोई काम किया जाता हैं, आज हम आपको वस्तु शास्त्र से हीं जु़ड़ी कुछ खास चीजें बता रहें हैं , यह बात आपके घर से जुड़ी हैं अगर इसका ध्यान रखा जाता हैं तो आपके घरो में सुख-समृद्धि आती है दरअसल आज बात हम औषधीय गुणों से भरपूर पौधें तुलसी की करने वालें हैं , जो लोगों की आस्था का भी प्रतीक है। हिंदू धर्म के लोग तुलसी की पूजा करते हैं तुलसी का पौधा लगभग हर घर में पाया जाता है. तुलसी का पौधा बुध का प्रतिनिधित्व करता है, जो भगवान कृष्ण का एक स्वरूप माना गया है. कई घरों में तुलसी की पूजा भी की जाती है लेकिन अगर तुलसी सही जगह ना रखी जाए तो ये अशुभ फल भी देती है. घर की बालकनी की उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशा में तुलसी के पांच पौधे लगाने चाहिए। इससे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। आज के समय में जगह की कमी होने के कारण लोग अपनी छत के सबसे ऊपर तुलसी लगा देते हैं लेकिन वास्तु के अनुसार यह सही नहीं माना जाता है, इससे आपको धन हानि उठानी पड़ सकती है।

- : इन बातों का रखें ध्यान

• तुलसी का पौधा औषधीय गुणों से भरपूर होने के साथ ही आस्था का भी प्रतीक माना जाता है. इसलिए आपको यह पता होना चाहिए कि वास्तु शास्त्र के अनुसार तुलसी का पौधा किस दिशा में रखना चाहिए. वास्तु शास्त्र के मुताबिक यदि आपके घर में तुलसी का पौधा है तो आपको बता दें कि इस पौधे का घर की बालकनी या खिड़की की उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा में लगाना चाहिए. इन दिशाओं में देवी-देवताओं का निवास माना जाता है और इन जगहों पर तुलसी के पौधे को रखना शुभ होता है.

• ध्यान रखें तुलसी के साथ कभी भी कैक्टस और कांटेदार पौधे को कभी नहीं रखना चाहिए.
मान्यता है कि अमावस्या, द्वादशी और चतुर्दशी तिथि को तुलसी के पत्तों को भूलकर भी नहीं तोड़ना चाहिए.

• रविवार के दिन तुलसी में की पूजा नहीं की जाती और न ही जल अर्पित करना चाहिए. ध्यान रखें रविवार के दिन तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए.

• कहा जाता है कि तुलसी के पौधे को कभी नाखून से नहीं तोड़ना चाहिए.

• तुलसी का पौधा यदि सूख गया है तो उसे ज्यादा दिन घर में नहीं रखना चाहिए क्योंकि इसे नकारात्मकता आती है.

• तुलसी का पौधा सूख गया है तो उसे गमले से निकालकर नदी में प्रवाहित कर दें.

• मान्यता है कि पूजा के दौरान देवी-देवताओं को तुलसी पत्र अर्पित करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है.

• याद रखें कि गणेश जी की पूजा में तुलसी के पत्तों को भूलकर भी शामिल नहीं करना चाहिए.

-: घर के अंदर यहां नहीं लगाएं

• घर के आंगन के अलावा तुलसी का पौधा किचन में लगाया जा सकता है. मान्यताओं के मुताबिक, किचन में तुलसी लगाने से परिवार में कलह, क्लेश दूर होता है.

• घर में तुलसी का पौधा उत्तर, पूर्व दिशा या उत्तर-पूर्व में लगाना चाहिए. इससे घर में सकरात्मक ऊर्जा बनी रहती है. वास्तु के मुताबिक, दक्षिण दिशा में तुलसी का पौधा नहीं लगाना चाहिए. इससे घर में नकरात्मक असर हो सकता है.

• कारोबार में नुकसान हो रहा है तो तुलसी को दक्षिण-पश्चिम कोने में रखें और हर शुक्रवार को सुबह कच्चा दूध चढ़ाएं. इसके अलावा मिठाई का भोग लगाकर किसी सुहागिन स्त्री को मीठी चीज दें. इससे कारोबार में फायदा होने लगेगा.

• अगर आपकी शादी होने में दिक्कत आ रही है तो तुलसी को अग्नि कोण में लगाएं और हर रोज जल चढ़ाएंय इससे आपकी शादी जल्द हो जाएगी.

• तुलसी के पौधें को पूर्व दिशा की खिड़की के पास रखने से यदि बच्चे जिद्दी हो तो उनका जिद्द करना बंद हो जाता है.

• तुलसी को तोड़ने ही नहीं, बल्कि इसे लगाने और पूजा में इस्तेमाल करने को लेकर भी कई मान्यताएं प्रचलित हैं. इस घर के आंगन में यानि बीचोबीच में लगाना चाहिए.