मुंबई । महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा है  की कि शिवसेना कभी दुश्मन नहीं थी। आमतौर पर उद्धव ठाकरे सरकार पर भाजपा के हमले का नेतृत्व करने वाले देवेंद्र फडणवीस के बयान  से महाराष्ट्र की राजनीति में उबाल आ सकता है।  
पत्रकारों द्वारा यह पूछे जाने पर कि क्या दोनों पूर्व सहयोगियों के एक साथ आने की संभावना है,  फडणवीस ने कहा कि स्थिति को देखते हुए एक "उचित निर्णय" लिया जाएगा। 
उन्होंने कहा "हम (शिवसेना और भाजपा) कभी दुश्मन नहीं थे। वे हमारे दोस्त थे और जिन लोगों के खिलाफ उन्होंने लड़ाई लड़ी, उन्होंने उनके साथ मिलकर सरकार बनाई और  हमें छोड़ दिया।" 
फडणवीस ने कहा, "राजनीति में कोई अगर और लेकिन नहीं है, मौजूदा परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लिए जाते हैं।"
शनिवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी भाजपा नेता आशीष शेलार से मुलाकात की थी। बाद में राउत ने अटकलों को दूर करने के प्रयास में कहा, "इस तरह की अफवाहें जितनी अधिक फैलेंगी, एमवीए गठबंधन उतना ही मजबूत होगा।"
उन्होंने कहा, "हमारे बीच राजनीतिक और वैचारिक मतभेद हो सकते हैं, लेकिन अगर हम सार्वजनिक समारोहों में आमने-सामने आते हैं, तो सौहार्दपूर्वक एक-दूसरे का अभिवादन करेंगे। मैंने शेलार के साथ खुले तौर पर कॉफी पी है।"