मुंबई । बॉलिवुड ऐक्‍ट्रेस महिमा चौधरी ने फिल्‍ममेकर सुभाष घई पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्‍होंने कहा कि घई ने उन्‍हें परेशान किया और यहां तक कि उन्‍हें कोर्ट तक खींचा और शो कैंसल किया। अब इस पर फिल्‍ममेकर का जवाब आया है। सुभाष घई ने कहा कि 'मैं यह खबर पढ़कर आश्‍चर्यचकित हूं। महिमा और मैं आज तक बहुत अच्‍छे दोस्‍त रहे हैं और मेसेज के जरिए अब भी टच में रहते हैं। वह आज की अच्‍छी और मच्‍योर महिला हैं। उन्‍होंने हाल ही में बताया था कि कैसे 23 साल बाद भी जब वह किसी इवेंट में जाती हैं तो उनका स्‍वागत परदेस के गाने 'आई लव माय इंडिया' से होता है।'
महिमा ने अपने आरोपों में यह भी कहा कि सुभाष घई ने एक विज्ञापन दिया था कि जो कोई भी महिमा के साथ काम करना चाहता है, वह उनसे कॉन्‍टैक्‍ट करे। इसके जवाब में फिल्‍ममेकर ने कहा, 'हां, परदेस की रिलीज के बाद 1997 में एक छोटा सा विवाद हुआ था। परदेस ब्‍लॉकबस्‍टर साबित हुई थी और उसके लिए महिमा को बेस्‍ट ऐक्‍ट्रेस का फिल्‍मफेयर अवॉर्ड मिला था।' घई ने आगे बताया, 'मेरी कंपनी ने उन्‍हें हमारे अग्रीमेंट का उल्‍लंघन करने के लिए शो कॉज नोटिस भेजा था। मीडिया और इंडस्‍ट्री ने इस पर बड़े रूप में रिऐक्‍ट किया और फिर मैंने इससे हाथ पीछे कर लिया और उनका मुक्‍ता आर्ट्स के साथ कॉन्‍ट्रैक्‍ट कैंसल कर दिया। 3 साल बाद महिमा अपने परिवार के साथ मेरे पास आईं और अपने रिऐक्‍शन के लिए माफी मांगी। मैंने सबकुछ भुला दिया और हमारी फिर दोस्‍ती हो गई। वह अच्‍छी इंसान हैं और मैंने उनपर भरोसा करता हूं। जब उन्‍होंने कहा कि उन्‍हें परेशान किया गया तो उनके कहने का मतलब अच्‍छे सेंस में होगा।' घई ने फिल्‍म 'कांची' में महिमा का स्‍पेशल अपियरेंस के बारे में कहा, 'मैं महिमा की प्रशंसा करता हूं कि उन्‍होंने 2015 में आई मेरी आखिरी फिल्‍म कांची के एक गाने में गेस्‍ट अपियरेंस दिया। मुझे लगता है कि छोटे से पुराने झगड़े में भी हमारा मनोरंजन होता है जो कि फिल्‍मी लाइफ में सामान्य सी चीज है।'